अपने तो लावारिस छोड़ गए, गैरों ने दिया सहारा,

0
47

दो सिपाही दो महीने से कर रहे देखरेख, रोज खाना भी खिलाते हैं पास की महिलाओं से बाल कटवाए और कपड़े बदलवाए भोपाल. उलझे सूखे बाल, कांपते होंठ और मजबूरी में लड़खड़ाते कदम देखकर कोई भी सिहर जाए। ऐसे ही बेबस घूम रही एक मां पर 2 महीने पहले कटारा हिल्स थाने के दो सिपाहियों की नजर पड़ी। पास जाकर पूछा तो कन्नड़ में जवाब मिला। सिपाही उस मां की भाषा तो नहीं समझ पाए, लेकिन भाव ज़हन तक उतर गए। जिस मां ने पूरी जिंदगी बच्चों की परवरिश में खपा दी, जब उसी को सहारे की जरूरत पड़ी तो बच्चों ने लावारिस छोड़ दिया। दोनों सिपाहियों ने उसे चाय के बंद पड़े एक टपरे में ठिकाना दिया और देखरेख शुरू की। अब थाने का हर स्टाफ दिन में एक बार तो पूछ ही लेता है कि अम्मा कैसी हो…कायाकल्प… पास की महिलाओं से बाल कटवाए और कपड़े बदलवाए यह कहानी है अनुसुईया की। उम्र कोई 55 के आसपास। जाति, धर्म या कुल यहां बेमानी हैं क्योंकि ये कहानी इंसानियत की मिसाल है। सिपाही विवेक सिंह और सिंकू सिंह राणा को यह महिला 24 मार्च को बेसहारा घूमती मिली थी। विवेक ने पूछा अम्मा कहां जा रही हो? जवाब कन्नड़ भाषा में आया। साथ में भूख लगने का इशारा भी था। सिपाहियों ने महिला को लहारपुर पुलिस चौकी के पास टपरे में बिठा दिया जो लॉकडाउन के कारण बंद है। पास की महिलाओं को बुलाकर बाल कटवाए, नहलवाया, कपड़े बदलवाए और खाना खिलाया। सोने के लिए एक तखत भी रखवाया। तभी से दोनों सिपाही रोज अनुसुईया(वह अपना नाम अनुसुईया बताती है) के लिए खाने का इंतजाम करते हैं। अनुसुईया के पास बच्चों का नंबर नहीं है। बस इतना बता पाती है कि यशवंतपुर, कर्नाटक में उसका घर है।तारीफ… एसपी साउथ साईं कृष्णा ने सिपाहियों की तारीफ करते हुए ट्वीट किया है। शनिवार को एसडीएम से बात कर एसडीओपी अनिल त्रिपाठी महिला का काेरोना टेस्ट कराएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here