डा.बसंत तिवारी की अब यादें शेष नागपुर में सम्पन्न हुआ अंतिम संस्कार

0
97

प्रतिष्ठानों को बंद रख दी श्रद्धांजली
सिवनी ( केवलारी )-सम्पूर्ण जिले में राजनीति के परोधा के रूप में अपनी छबी स्थापित करने वाले डा.श्री बसंत तिवारी जी की अब मात्र स्मृति शेष रह गई है। वर्ष 1977 से ग्राम पंचायत के वार्ड क्रमांक 17 से पंच से राजनीति का सफर शुरू करने वाले राजनीति के निर्भिक निडर पुरोधा ने दिनॉंक 18.09.2020 की अर्धरात्रि में न्यूरॉन हास्पिॅटल क्रमांक 02 नागपुर महाराष्ट्र में अंतिम सांस ली। जिनका अंतिम संस्कार नागपुर के मोक्षधाम में दिनॉंक 09.09.2020 को दोपहर सवा बजे सम्पन्न हुआ। नगर में निवास स्थल पर क्षेत्र,नगर के लोगों एवं परिजनों ने उनके छायाचित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित कर उन्हे भावांजली अर्पित की एवं दिवंगत आत्मा की शांति के लिए शोक सभा का आयोजन किया गया। पिछले शनिवार को सांस लेने में तकलीफ होने के चलते उनके पुत्र डा.अविनाश तिवारी पत्नी श्रीमति अनुसुईया जी तिवारी एवं भतीजे अमित तिवारी ने नागपुर महाराष्ट्र में न्यूरान हास्पिॅटल में भर्ति कराया था,सम्पूर्ण जॉंच में कोविड-19 के संक्रमित होने के कारण आज उनकी मात्र यादें शेष रह गई है। श्री तिवारी जी का जन्म 5 अगस्त 1949 को डा.स्व.टिमाकचंद तिवारी के बडे पुत्र के रूप में हुआ था स्नातक बीए.एम.एस. की शिक्षा प्राप्त कर बिना फीस लिए गरीबों का इलॉज करते हुए वार्ड पंच से राजनीति का सफर करते हुए जनपद अध्यक्ष पद पर निर्भिकता से कार्य किया एवं राजनीति में अहम मुकाम हासिल किया,1986 में ब्लॉक स्तरीय 20 सूत्रीय कमेटी के अध्यक्ष,ब्लॉक कांॅग्रेस कमेटी के महामंत्री,ब्लाक कॉंग्रेस कमेटी के अध्यक्ष, जिला कॉंग्रेस कमेटी के महामंत्री, एवं जिला कॉंग्रेस कमेटी के अनुशासन समीति के अध्यक्ष इसके अलावा अध्यक्ष बडी खेरमाई प्रबंध समीति केवलारी,अध्यक्ष रामंदिर प्रबंध समीति पिपरिया कलॉं,अध्यक्ष रामंदिर प्रबंध समीति साठई,अध्यक्ष बाढ आपदा राहत समीति केवलारी,संयोजक सकल ब्राम्हण समाज केवलारी ,जैसे महत्वपूर्ण पदों पर रहते हुए समाज सेवा के साथ चिकित्सा पेशा में लोगों का इलाज करते हुए कब कोरोना कोविड-19 के संक्रमण से ग्रसित हो गये यह किसी को नही मालूम लेकिन अचानक उनके देहावसान का समाचार मिलने से पूरा क्षेत्र स्तंब्ध रह गया,आज उनको श्रंद्धाजली देने केवलारी नगर के समस्त व्यापारियों ने अपना-अपना प्रतिष्ठान बंद रखकर के अपने प्रियजन सेवक के प्रति सच्ची श्रद्धांजली अर्पित की है,श्री डा.बसंत तिवारी एक ऐसा नाम था जो समूचे जिले में अपनी एक पहचान रखता था। किसी भी क्षेत्र में हो उनके कार्य करने की क्षमता और कार्यशैली से लोग उनके हमेशा कायल एवं अनुग्रहित रहते थे। अचानक उनका देहांत होना केवलारी नही अपितु समूचे जिले के लिए एक अपूर्णीय क्षति है। जिसकी पूर्ति किया जाना असंभव है संवाद-दूत समाचार पत्र परिवार की ओर से सादर अश्रुपूरित श्रद्धांजली सादर नमन। ईश्वर उनको अपने चरणों में स्थान दें और शोक संतप्त परिवार को दुख सहन करने की शक्ति दें ईश्वर से यही कामना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here