दिल्ली दंगे : दिल्ली दंगो में स्पेशल सेल ने किया बड़ा खुलासा, मिले विदेशी फंडिंग…

0
198

दिल्ली दंगो की जांच में स्पेशल सेल ने बड़ा खुलासा किया है. जांच में उसे विदेशी फंडिंग के सुराग मिले हैं. जांच के दौरान यह भी पता चला कि दिल्ली दंगों के एक आरोपी ने मलेशिया में जाकर जाकिर नाईक से मुलाकात भी की. स्पेशल सेल ने यह बड़ा खुलासा अदालत में दाखिल स्टेटस रिपोर्ट में किया है.
नई दिल्ली: दिल्ली दंगो की जांच में स्पेशल सेल ने बड़ा खुलासा किया है. जांच में उसे विदेशी फंडिंग के सुराग मिले हैं. जांच के दौरान यह भी पता चला कि दिल्ली दंगों के एक आरोपी ने मलेशिया में जाकर जाकिर नाईक से मुलाकात भी की. स्पेशल सेल ने यह बड़ा खुलासा अदालत में दाखिल स्टेटस रिपोर्ट में किया है
बीती फरवरी के महीने में नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में हुए दंगों की जहां क्राइम ब्रांच जांच कर रही थी, वहीं स्पेशल सेल ने भी एक अलग FIR दंगो की साजिश को लेकर दर्ज की थी, उसी जांच में यह बड़ा खुलासा हुआ है.
बता दें कि स्पेशल सेल ने दंगों के एक मास्टरमाइंड खालिद सैफी को बीते महीने गिरफ्तार किया था और उसका पासपोर्ट भी बरामद किया था. तफ्तीश में उसी पासपोर्ट की डिटेल्स से पता चला कि खालिद ने भारत से फरार जाकिर नाईक से मुलाकात की थी.
ये वही खालिद सैफी है जिसने दंगों के पहले शाहीनबाग में ताहिर हुसैन और जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद के साथ शाहीनबाग मे मीटिंग की थी जिसमें दंगों का प्लान बना था.
तफ्तीश में यह बात सामने आई कि दंगो के लिए फंडिग की गई थी. स्पेशल सेल के मुताबिक ANTI CAA प्रदर्शन में भडकाऊ भाषण देने वाली और दंगों के आरोप में गिरफ्तार इशरत जहां को भी फंड मिला था. ये फंड गाजियाबाद और महारास्ट्र के उसके कुछ रिश्तेदारों से मिला था. फंड जिन्होंने दिया, उनसे पूछताछ की जानी थी लेकिन कोरोना की वजह से अभी पूछताछ नहीं हुई है.
जांच में पता चला कि आरोपी खालिद सैफी को दंगों के लिए सिंगापुर के NRI ने पैसे भेजे थे जो खालिद के NGO में ट्रांसफर हुआ था. बता दें की खालिद मेरठ के रहने वाले अपने पार्टनर के साथ NGO चलाता है जिससे जल्द पूछताछ होगी.
तफ्तीश के मुताबिक खालिद सैफी ने फंड जुटाने के लिए कई देशों का दौरा किया था और जाकिर नाईक से भी मिला था. आरोपी इशरत जहां और खालिद सैफी को PFI, सिंगापुर और सऊदी अरब से भी मिले पैसों की जांच की जा की जा रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here